Home » General » Prasoon Joshi recites a Poem on Ayodhya Issue [Must Watch Video]

Prasoon Joshi recites a Poem on Ayodhya Issue [Must Watch Video]

Prasoon Joshi doesn’t need an introduction, you must be we aware of this dynamic personality, he has made an identity for himself. A poet, a writer, a song writer, a screenwriter, a columnist, a speaker, he is an all in one package. [Read more about Prasoon Joshi]

Prasoon recently recited this poem, which is available as a video on TOI Website, the poem is really heart touching, and its ability to deliver the common man’s point of view on the Ayodhya verdict is damn awesome, watch it.

Prasoon Joshi recites poem on Ayodhya | Here is the poem in Devnagari script :

किसीने कुछ बनाया था किसीने कुछ बनाया है,
किसीने कुछ बनाया था किसीने कुछ बनाया है,
कहीं  मंदिर की परछाई ,कहीं  मस्जिद का साया है,
ना तब पूछा था हमसे अब ना पूछने आये है,
हमेशा फैसले  करके हमे यूँ ही सुनाया  है.
किसीने कुछ बनाया था किसीने कुछ बनाया है,
हमे फुर्सत कहाँ रोटी की गोलायी के चक्कर से,
ना जाने किसका मंदिर है,
ना जाने किसकी मस्जिद है,
ना जाने कौन उलझाता है सीधे सच्चे धागों को,
ना जाने कौन उलझाता है सीधे सच्चे धागों को,
ना जाने किसकी साज़िश है,
ना जाने किसकी जिद्द  है,
अजब सा सिलसिला है जाने किसने चलाया है,
किसीने कुछ बनाया था किसीने कुछ बनाया है,
वोह कहते हैं “तुम्हारा है ज़रा तुम इक नज़र डालो”,
वोह कहते हैं “बढ़ो मांगो, ज़रूरी है ना तुम टालो”,
मगर अपनी ज़रुरत तो है बिलकुल ही अलग इससे,
ज़रा ठहरो ज़रा सोचो, हमें सांचों में मत ढालो,
बताओ कौन यह शोला मेरे आँगन में लाया है,
किसीने कुछ बनाया था किसीने कुछ बनाया है,
अगर हिन्दू में आंधी है,
अगर तूफ़ान मुसलमाँ है
तो आओ आंधी तूफ़ान यार बनके कुछ नया कर दें,
तो आओ आंधी तूफ़ान यार बनके कुछ नया कर दें,
तो आओ इक नजर डालें अहम् से कुछ सवालों पर,
कई कोने अँधेरे हैं मशालों को दिया कर दें,
अब असली दर्द बोलेंगे जो सीनों में छुपाया है,
किसीने कुछ बनाया था किसीने कुछ बनाया है!!

I really loved watching this, and so, felt like sharing it with you all. Tell us how you liked this Poem by Prasoon Joshi.


About Manav Mishra

A fan of Indian Festivals and the Indian Culture.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*